Annali d'Italia, vol. 3 - 09

शब्दों की कुल संख्या 4323 है
अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1805 है
37.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
51.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
59.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
mandò _Teodoro_ patrizio e generale dell'esercito di Sicilia con una
flotta di navi a Ravenna, il quale prese la città, e tutti i ribelli che
ivi trovò mise ne' ceppi e mandolli a Costantinopoli con tutte le loro
ricchezze, messe in quella congiuntura a sacco. Aggiugne ch'essi
cittadini, per giudizio di Dio e per sentenza del principe degli
Apostoli, riportarono il gastigo della loro disubbidienza alla Sede
apostolica, essendo stati fatti tutti perire d'amara morte, e, fra gli
altri, privato degli occhi il loro arcivescovo _Felice_, che di poi fu
relegato nelle coste del mare Eusino, ossia del Ponto, probabilmente a
Chersona, stanza solita degli esiliati. Bisogna ora ascoltare Agnello
ravennate[183], che poco più di cento anni dopo descrisse questa
tragedia della sua città. Narra egli, nella vita di Felice arcivescovo,
che l'uffiziale spedito da Giustiniano fermossi fuor di Ravenna colle
navi ancorate al lido. Nel primo dì fece un bellissimo accoglimento ai
primarii cittadini, ed invitolli pel dì seguente. Poi fatto addobbar di
cortinaggi il tratto di uno stadio sino al mare, e colà concorsa tutta
la nobilità di Ravenna, cominciò ad ammettergli a due a due all'udienza.
Ma non sì tosto erano dentro, che venivano presi, e con gli sbadacchi in
bocca condotti in fondo di una nave. Con tal frode restarono colti tutti
i nobili della terra, fra gli altri _Felice_ arcivescovo e
_Giovanniccio_, quel valente ravennate che avea servito nella segretaria
del medesimo imperadore. Ciò fatto, i Greci entrarono in Ravenna,
diedero il sacco, attaccarono il fuoco in assaissimi luoghi della città,
che si riempiè di urli e di pianti, e rimase in un mar di miserie.
Poscia diedero le vele al vento, e condussero a Costantinopoli i
prigioni. Ed ecco come trattavano i Greci il misero popolo italiano che
restava suddito al loro dominio. Quei Longobardi, che non si sogliono
senza orrore nominar da taluno, un pacifico e buon governo intanto
faceano godere al resto dell'Italia. In quest'anno i Saraceni
assediarono Tiana città della Cappadocia. Giustiniano per farli
sloggiare vi mandò molte brigate d'armati sotto due generali, che, oltre
al non andare d'accordo, attaccarono senz'ordine il nemico, e furono
rotti colla perdita di tutto l'equipaggio, e così restò la città preda
dei Barbari.
NOTE:
[182] Anast., in Constant.
[183] Agnell., in Vit. Episcopor. Ravennat., tom. 2. Rer. Italic.


Anno di CRISTO DCCX. Indizione VIII.
COSTANTINO papa 3.
GIUSTINIANO II imperadore di nuovo regnante 6.
ARIBERTO II re 10.

Fra le sue crudeltà e pazzie non lasciò l'imperador _Giustiniano_ di
desiderar l'accordo fra la Chiesa romana e greca in ordine ai canoni del
concilio trullano. Per ottener questo bene, conoscendo che gioverebbe
assai la presenza del romano pontefice, spedì, secondochè attesta
Anastasio, ordine a papa _Costantino_ di portarsi a Costantinopoli. Però
fece egli preparar delle navi per fare il viaggio di mare, e nel dì 5 di
ottobre del presente anno imbarcatosi, sciolse dal porto Romano,
conducendo seco _Niceta_ vescovo di Selva Candida, _Giorgio_ vescovo di
Porto, e molti altri del clero romano. Arrivò a Napoli, dove fu accolto
da _Giovanni_ patrizio ed esarco, soprannomato _Rizocopo_, il quale era
inviato per succedere a _Teofilatto_ esarco. Quindi passato in Sicilia,
quivi trovò _Teodoro_ patrizio e generale dell'armi, che gli fece un
suntuoso incontro; e con suo vantaggio, perchè venne malato a riceverlo,
e se ne tornò indietro guarito. Per Reggio e Crotone s'avanzò fino a
Gallipoli, dove morì il vescovo Niceta, e di là andò ad Otranto. In
quella città, perchè sopravvenne il verno, bisognò che si fermasse; e
colà ancora pervenne lettera dell'imperadore, portante un ordine a tutti
i governatori de' luoghi per dove avesse da passare il papa, che
usassero verso di lui lo stesso onore che farebbono alla persona del
medesimo Augusto. Giunsero in quest'anno a Costantinopoli i prigioni
ravennati, e furono menati davanti all'inumano Augusto, il quale era
assiso in una sedia coperta d'oro e tempestata di smeraldi, col diadema
tessuto d'oro e di perle, e lavorato da _Teodora_ Augusta sua moglie.
Comandò egli che tutti fossero messi in carcere, per determinar poscia
la maniera della lor morte. In una parola, tutti quei senatori e nobili,
chi in una chi in un'altra forma furono crudelmente fatti morire. Aveva
anche giurato l'implacabil regnante di tor la vita all'arcivescovo
_Felice_[184]; ma se merita in ciò fede Agnello, la notte dormendo gli
apparve un giovane nobilissimo con a canto esso arcivescovo, che disse:
_Non insanguinar la spada in quest'uomo_. Svegliato l'imperadore,
raccontò il sogno a' suoi; poscia, per osservare il giuramento, fece
portare un bacino di argento infocato, e spargervi sopra dell'aceto, e
in quello fatti per forza tener gli occhi fissi a Felice, tanto che si
disseccò la pupilla, il lasciò cieco. Tale era l'uso de' Greci, per
torre l'uso della vista alle persone, e di là nacque l'italiano
_abbacinare_. Fu dipoi esso arcivescovo mandato in esilio nella Crimea.
Sommamente riuscì quest'anno pernicioso e funesto alla Cristianità,
perchè gli Arabi, ossia i Saraceni, non contenti del loro vasto imperio,
consistente nella Persia, e continuato di là fino allo stretto di
Gibilterra, passato anche il Mediterraneo, fecero un'irruzione nella
Spagna, dove poscia nell'anno seguente fermarono il piede, e ve lo
tennero fino all'anno 1492, in cui Granata fu presa dall'armi de'
cattolici monarchi Ferdinando re ed Isabella regina di Castiglia e
d'Aragona. Cominciò, dissi, in quest'anno a provarsi in quel regno la
potenza de' Monsulmani o Musulmani, voglio dire de' Maomettani, e poi
nel seguente continuarono le loro conquiste, con riportar varie vittorie
sopra i già valorosi Visigoti cattolici, la gloria de' quali restò quasi
interamente estinta, e per colpa principalmente di un Giuliano conte,
traditore della patria sua. Fama nondimeno è che in questo anno seguisse
un combattimento, rinnovato per otto giorni continui, fra i Cristiani e
i Saraceni, e che restassero disfatti i primi colla morte dello stesso
cattolico re _Rodrigo_. Certo è che a poco a poco s'impadronirono quegli
infedeli di Malega, Granata, Cordova, Toledo e di altre città e
provincie, dove cominciò a trionfare il maomettismo, ancorchè coloro
lasciassero poi libero l'uso della religion cristiana cattolica ai
popoli soggiogati.
NOTE:
[184] Agnell., in Vit. Felicis.


Anno di CRISTO DCCXI. Indizione IX.
COSTANTINO papa 4.
FILIPPICO imperadore 1.
ARIBERTO II re 11.

Nella primavera di quest'anno continuò _Costantino_ papa il suo viaggio
per mare a Costantinopoli, dopo aver ricevuto grandi onori dovunque egli
passava[185]. Ma insigni specialmente furono i fatti a lui, allorchè
giunse colà. Sette miglia fuori di quella regal città gli venne incontro
_Tiberio_ Augusto figliuolo dell'imperador _Giustiniano II_, colla
primaria nobilità, e _Ciro_ patriarca col suo clero, e una gran folla di
popolo. Il papa salito a cavallo con tutti di sua corte, portando il
camauro, come fa in Roma stessa, andò ad alloggiare al palazzo di
Placidia. Saputa la sua venuta, Giustiniano, che si trovava a Nicea, gli
scrisse immantenente una lettera piena di cortesia, con pregarlo di
venir sino a Nicomedìa, dove anch'egli si troverebbe. Quivi in fatti
seguì il loro abboccamento, e l'imperadore ben conoscente della
venerazion dovuta ai successori di san Pietro, colla corona in capo
s'inginocchiò e gli baciò i piedi, ed amendue poscia teneramente
s'abbracciarono con somma festa di tutti gli astanti. Nella seguente
domenica il papa celebrò messa, e comunicò di sua mano l'imperadore, che
poi si raccomandò alle di lui preghiere, acciocchè Dio gli perdonasse i
suoi peccati, e ne avea ben molti. E dopo avergli confermati tutti i
privilegii della Chiesa romana, gli diede licenza di tornarsene in
Italia. Punto non racconta Anastasio qual fosse il motivo, per cui il
papa venisse chiamato in Levante, nè cosa egli trattasse
coll'imperadore. I padri Lupo[186] e Pagi[187] hanno immaginato, e con
verisimiglianza, che si parlasse dei canoni del concilio trullano, e che
il pontefice confermasse quelli che lo meritavano, con riprovar gli
altri ripugnanti alla disciplina ecclesiastica della Chiesa latina. Pare
ancora che ciò si possa inferire da alcune parole del medesimo Anastasio
nella Vita di papa Gregorio II. Ma non è inverisimile che quel capo
sventato di Giustiniano chiamasse colà il papa per far vedere al mondo
ch'egli comandava a Roma, e si faceva ubbidire anche dai sommi
pontefici: giacchè non apparisce chiaro che ciò fosse per motivo della
religione. Comunque sia, partissi il papa da Nicomedia, e benchè da
molti incomodi di sanità afflitto, arrivò finalmente al porto di Gaeta,
dove trovò buona parte del clero e popolo romano, e nel dì 24 di ottobre
entrò in Roma con gran plauso ed allegrezza di tutta la città. Ma nel
tempo della sua lontananza accadde bene il contrario in Roma, cioè uno
sconcerto che arrecò non poca afflizione a quegli abitanti. Passando per
essa città nell'andare a Ravenna il nuovo esarco _Giovanni Rizocopo_
fece prendere Paolo, diacono e vicedomino (cioè il maggiordomo, oppure
il mastro di casa del papa), Sergio abbate e prete, Pietro tesoriere
(parimente, per quanto pare, del papa) e Sergio ordinatore, e fece loro
mozzare il capo. Tace Anastasio i motivi o pretesti di questa
carnificina di persone sacre e di alto affare. Soggiugne bensì, che
costui, andato a Ravenna, quivi, a cagion della sue iniquità, per giusto
giudizio di Dio, vi morì di brutta morte. Questa notizia ci apre l'adito
ad attaccare al suo racconto ciò che abbiamo da Agnello scrittore
ravennate, mentovato più volte di sopra, la cui storia è arrivata fino
ai nostri giorni mercè di un codice manuscritto estense. Ci fa saper
questo istorico[188] che il popolo di Ravenna trovandosi in somma
costernazione e tristezza, non meno pel sacco patito l'anno addietro,
che per la nuova del macello di tanta nobiltà ravennate fatto in
Costantinopoli, scosse il giogo dell'indiavolato imperadore. Elessero
eglino per loro capo Giorgio, figliuolo di quel Giovanniccio, di cui
abbiam parlato di sopra, giovane grazioso d'aspetto, prudente ne'
consigli e verace nelle sue parole. In questa ribellione o
confederazione concorsero l'altre città dell'esarcato, che da Agnello
sono enunziate secondo l'ordine che dovea praticarsi per le guardie,
cioè _Sarsina_, _Cervia_, _Cesena_, _Forlimpopoli_, _Forlì_, _Faenza_,
_Imola_ e _Bologna_. Divise Giorgio il popolo di Ravenna in varii
reggimenti, denominati dalle bandiere; cioè _bandiera_ o _insegna
prima_, _la seconda_, la _nuova_, l'_invitta_, la _costantinopolitana_,
la _stabile_, la _lieta_, la _milanese_, la _veronese_, quella di
_Classe_, e la _parte dell'arcivescovo_ coi cherici, con gli onorati e
colle chiese sottoposte. Quest'ordine nella milizia ravennate si
osservava tuttavia da lì a cento anni allorchè Agnello scrisse la
suddetta storia, cioè le vite degli arcivescovi di quella città. Ma ciò
che operassero dipoi i Ravennati, non si legge nella storia castrata da
gran tempo del medesimo Agnello. Solamente aggiugne che Giovanniccio,
quel valente segretario di Giustiniano Augusto, fu in questo anno, per
ordine d'esso imperadore, crudelmente tormentato e fatto morire, e che
egli chiamò al tribunale di Dio quel crudelissimo principe, con predire
che nel dì seguente anch'egli sarebbe ucciso. Agnese figliuola d'esso
Giovanniccio fu bisavola del medesimo Agnello storico, da cui sappiamo
ancora che lo stesso Giovanniccio quegli fu che mise in bell'ordine il
messale, le ore canoniche, le antifone e il rituale, de' quali si servì
da lì innanzi la Chiesa di Ravenna. Ora egli è da credere che _Giovanni
Rizocopo_ nuovo esarco, giunto in vicinanza di Ravenna, in vece di
prendere le redini del governo trovasse ivi la morte per l'ammutinamento
di due' popoli. Ma è cosa da maravigliarsi come Girolamo Rossi[189],
descrivendo i fatti de' Ravennati in questi tempi, confondesse i tempi,
e di suo capriccio descrivesse avvenimenti, de' quali non parla l'antica
storia, o diversamente ne parla.
Verificossi poi la morte dell'imperador _Giustiniano_, siccome dicono
che avea predetto Giovanniccio. Come succedesse quella tragedia,
l'abbiamo da Teofane[190], da Niceforo[191], da Cedreno[192] e da
Zonara[193]. Cadde in pensiero a questo sanguinario principe di
vendicarsi ancora degli abitanti di Chersona nella Crimea, sovvenendogli
della intenzione ch'ebbero di ammazzarlo, allorchè egli era relegato in
quella penisola. A tale effetto mandò colà un formidabile stuolo di navi
con centomila uomini tra soldati, artefici e rustici. Si può sospettar
disorbitante tanta gente per mare, e che gli storici greci, soliti a
magnificar le cose loro, aprissero ancor qui più del dovere la bocca.
Stefano patrizio fu scelto per general dell'impresa, e con ordine di far
man bassa sopra que' popoli. Scrive Paolo Diacono[194], che trovandosi
allora papa Costantino alla corte, dissuase per quanto potè l'imperadore
da sì crudele impresa; ma non gli riuscì d'impedirla. Grande fu la
strage, e i principali del Chersoneso parte furono inviati colle catene
a Costantinopoli, parte infilzati negli spiedi e bruciati vivi, parte
sommersi nel mare. Giustiniano, all'intendere che si era perdonato ai
giovani e fanciulli, andò nelle furie, e comandò che l'armata nel mese
d'ottobre tornasse colà a fare del resto. Ma sollevatasi una gran
fortuna di mare, quasi tutta questa armata andò a fondo, calcolandosi
(se pur si può credere) che vi perissero circa sessantatremila persone:
del che non solo non si attristò il pazzo imperadore, ma con giubilo
comandò che si preparasse un'altra flotta, e si andasse a compiere la
presa risoluzione, con distruggere tutte le città e castella della
Crimea. Ora quei del paese, che erano fuggiti o sopravanzati alle spade,
avvisati di questa barbara risoluzione, si unirono, si fortificarono,
ottennero soccorso dai Gazari, e dopo aver ripulsate le armi cesaree,
proclamarono imperadore _Bardane_ che assunse il nome di _Filippico_, il
quale, mandato in esilio molti anni prima, siccome dicemmo all'anno 701,
fu chiamato, o accorse colà in tal congiuntura. _Mauro_ patrizio colla
sua flotta, per timore di essere gastigato da Giustiniano, si unì con
Filippico, e tutti concordemente sul fine di quest'anno giunsero a
Costantinopoli, dove pacificamente fu ammesso il nuovo Augusto, giacchè
Giustiniano dianzi uscito in campagna colle poche truppe che avea, e con
un rinforzo ottenuto dai Bulgari, non fu a tempo di prevenire Filippico.
Spedito dipoi contra di esso Giustiniano _Elia_ generale di Filippico,
tanto seppe adoperarsi, che tirò nel suo partito i soldati del di lui
esercito, mandò contenti a casa i Bulgari, ed avuto in mano il bestiale
imperadore Giustiniano, con un colpo di sciabla gli fece, come potè,
pagare il sangue d'innumerabili cristiani da lui sparso. Inviata a
Costantinopoli la di lui testa, d'ordine di Filippico fu poi portata a
Roma. _Tiberio_ Augusto di lui figliuolo scappato in chiesa, ne fu per
forza estratto, ed anch'egli tolto di vita. Questo fine ebbe
_Giustiniano Rinotmeto_, cattivo figliuolo di un ottimo padre, che,
sedotto dallo spirito della vendetta, andò fabbricando a sè stesso la
propria rovina, e colla sua morte liberò da un gran peso la terra. In
quest'anno ancora diede fine a' suoi giorni _Childeberto III_, re di
Francia, che ebbe per successore _Dagoberto III_, tutti re di stucco in
questi tempi, perchè re vero, benchè senza nome, era _Pippino_ di
Eristallo loro maggiordomo.
NOTE:
[185] Anastas., in Constant.
[186] Lupus, in Notis ad Canon. Concil. Trull.
[187] Pagius, ad Annal. Baron.
[188] Agnell., in Vit. Felicis, tom. 2, Rer. Italic.
[189] Rubeus, Histor. Ravenn., lib. 4.
[190] Theoph., in Chronogr.
[191] Niceph., in Chron.
[192] Cedren., in Annalib.
[193] Zonaras, in Historia.
[194] Paulus Diaconus, lib. 6, cap. 31.


Anno di CRISTO DCCXII. Indizione X.
COSTANTINO papa 5.
FILIPPICO imperadore 2.
ALIPRANDO re 1.
LIUTPRANDO re 1.

Sotto il nuovo imperadore _Filippico_ si credeva omai di goder pace e
tranquillità il romano imperio, quando costui si venne a scoprire
imbevuto di errori contrarii alla dottrina ed unità della Chiesa
cattolica. Si disse (ma forse fu una ciarla inventata da alcuno) che un
monaco del monistero di Callistrato molti anni prima gli avea più volte
predetto l'imperio, con raccomandargli insieme di abolire il concilio
sesto generale, come cosa mal fatta, se pure a lui premeva di star
lungamente sul trono. Gliel promise Bardane[195], ossia Filippico, e la
parola fu mantenuta. Poco dunque stette, dopo esser giunto al comando,
che raunato un conciliabolo di vescovi, o adulatori o timorosi, fece
dichiarar nullo il suddetto concilio, ed insieme condannare i padri che
lo aveano tenuto, avendo già cacciato dalla sedia di Costantinopoli
_Ciro_, e a lui sostituito _Giovanni_ aderente ai suoi errori. Se ne
stava poi questo novello Augusto passando le ore in ozio nel palazzo, e
pazzamente dilapidando i tesori raunati dai precedenti Augusti, e
massimamente dal suo predecessore Giustiniano II con tanti confischi da
lui fatti sotto varii pretesti. Per altro nel parlare era molto
eloquente, e veniva riputato uomo prudente; ma ne' fatti si scoprì
inabile a sì gran dignità, e specialmente sporcò la sua vita coll'eresia
e con gli adulterii, essendo penetrata la sua lussuria fin dentro i
chiostri delle sacre vergini. La fortuna di Filippico fu ancor quella di
_Felice_ arcivescovo di Ravenna, il quale accecato viveva in esilio
nella Crimea[196]. Venne egli rimesso in libertà dal nuovo Augusto, con
fargli restituire quanto avea perduto. Fu anche regalato da lui di molti
vasi di cristallo, ornati d'oro e di pietre preziose. Fra gli altri doni
v'era una corona picciola d'oro, ma arricchita di gemme di tanta valuta,
che un giudeo mercatante, a' tempi d'Agnello storico, interrogato da
Carlo Magno, quanto se ne caverebbe vendendola, rispose che tutte le
ricchezze e i paramenti della cattedral di Ravenna non valevano tanto
come quella sola corona. Ma questa, soggiugne Agnello, sotto lo
arcivescovo _Giorgio_, che fu ai suoi giorni, sparì. Racconta dipoi esso
storico un miracolo fatto da questo arcivescovo, con far morire
daddovero chi s'era finto morto per burlarlo. Ma in questi secoli una
gran facilità v'era a spacciare, e molto più a credere le cose
maravigliose; e noi, dopo aver veduto la superbia di questo prelato che
volle cozzar coi romani pontefici, non abbiamo gran motivo di tenerlo
per santo. Convien nondimeno confessare il vero, e ne abbiam la
testimonianza di Anastasio bibliotecario[197], che, ritornato questo
arcivescovo in Italia, pentito dell'antico orgoglio, mandò a Roma la sua
profession di fede e l'atto della sua sommessione al papa, con che si
riconciliò colla Chiesa romana, e visse poi sempre di accordo con lei.
Secondo tutte le apparenze, Felice arcivescovo quegli fu che fece depor
l'armi ai Ravennati e cessar la cominciata loro ribellione. Tre mesi
dopo l'arrivo in Roma di papa _Costantino_, cioè verso il fine di
gennaio dell'anno presente, arrivò colà la nuova della mutazione
accaduta in Costantinopoli, colla creazione d'un imperadore eretico:
cosa che turbò forte esso papa e tutta la Chiesa. Venne dipoi anche
lettera del medesimo Augusto, che portava la dichiarazione degli errori
di lui: ma il papa col consiglio del clero la rigettò. Anzi acceso di
zelo tutto il popolo romano, fece pubblicamente dipingere nel portico di
san Pietro i sei concilii generali, acciocchè ben comparisse il suo
attaccamento alla vera fede. Animosamente ancora dipoi si oppose
all'ordine mandato da Costantinopoli, che simili pitture si abolissero.
Andò tanto innanzi lo zelo di esso popolo, che fu risoluto di non
riconoscere Filippico per imperadore, nè di ammettere il suo ritratto,
siccome si solea fare degli altri Augusti, con riporlo poi in una
chiesa, nè di nominarlo nella messa e negli strumenti, nè di lasciar
correre moneta battuta da lui. Ciò vien pure attestato da Paolo Diacono.
Fino a questi tempi _Ansprando_, aio del fu re _Liutberto_, avea fermato
il piede in Baviera. Probabilmente era anche egli o nativo o oriondo di
quel paese, che avea dato più re ai Longobardi in Italia, siccome abbiam
veduto[198]. Ora egli, ottenuto un poderoso corpo di soldatesche da
_Teodeberto_ duca d'essa Baviera, venne in Italia contra del re
_Ariberto II_, che non fu pigro ad incontrarlo colle sue forze. Seguì
fra loro una giornata campale, che costò di gran sangue all'una e
all'altra parte. La notte fu quella che separò i combattenti; e la
verità è, che i Bavaresi ebbero la peggio, e si preparavano alla fuga.
Ma Ariberto, che non dovea essere bene informato del loro stato, in vece
di star saldo nel suo accampamento, giudicò meglio di ritirarsi
coll'esercito in Pavia. Questa risoluzione, sì, perchè rimise in petto
ai nemici l'ardire, e sì perchè tornò in vergogna e danno de'
Longobardi, parendo che fossero vinti, cagionò tale alienazion d'affetto
dei Longobardi verso di Ariberto, che protestarono di non voler più
combattere per lui, e che volevano darsi ad Ansprando. Il perchè
Ariberto, entrato nell'anno dodicesimo del suo regno, temendo di sua
vita, determinò di ritirarsi in Francia; e preso quant'oro potè portar
seco, segretamente fuggì dalla città. Ma mentre egli vuol passare a
nuoto il Ticino, il peso dell'oro (se pur si può credere) fu cagione
ch'egli restasse affogato nell'acque. Trovato nel dì seguente il suo
cadavero, gli fu data sepoltura nella chiesa di san Salvatore fuori
della porta di ponente, fabbricata dal re Ariberto I, suo avolo. A
riserva del principio del regno di questo re, che coll'usurpazione e
colla crudeltà si tirò dietro il biasimo dei saggi, _Ariberto II_ si
fece conoscere principe pio, limosiniere e amatore della giustizia. Ebbe
egli in uso di uscir di corte la notte travestito, e di girar qua e là,
per sentire non men da quei della terra che dai forestieri cosa si
diceva di lui per le città, e qual giustizia si facesse dai giudici del
paese: il che serviva a lui di scorta per rimediare ai non pochi
disordini. E qualora venivano ambasciatori de' potentati stranieri a
trovarlo, il costume suo era di lasciarsi loro vedere con abiti vili, e
colle pellicce usate allora assaissimo dal popolo; nè mai volle imbandir
la loro tavola di vini preziosi, nè di vivande rare, affinchè non
concepissero grande idea del paese, e non venisse lor voglia d'insinuar
la conquista d'Italia ai loro padroni. Ebbe un fratello per nome
_Gumberto_, che, fuggito in Francia, quivi passò il resto de' suoi
giorni, e lasciò dopo di sè tre figliuoli, uno de' quali, appellato
_Ragimberto_, a' tempi di Paolo Diacono era governatore della città
d'Orleans. Dappoichè terminato fu il funerale del re Ariberto II, di
concorde volere i Longobardi elessero per re loro _Ansprando_,
personaggio provveduto di tutte le qualità che si ricercano a ben
governar popoli, e massimamente di prudenza, nel qual pregio ebbe pochi
pari. Ma corto di troppo fu il suo regno, essendo stato rapito dalla
morte dopo soli tre mesi di regno in età di cinquantacinque anni. Prima
nondimeno di morire, ebbe la consolazion d'intendere che i Longobardi
aveano proclamato re _Liutprando_ suo figliuolo, così nominato, e non
già _Luitprando_, come costa dalle lapidi e dai documenti antichi. Fu
posto il di lui cadavero in un avello nella chiesa di sant'Adriano,
fabbricata, per quanto si crede, da lui, col seguente epitaffio composto
di versi ritmici.
ANSPRANDVS, HONESTVS MORIBVS, PRVDENTIA POLLENS,
SAPIENS, MODESTVS, PATIENS, SERMONE FACVNDVS,
ADSTANTIBVS QVI DVLCIA, FAVI MELLIS AD INSTAR,
SINGVLIS PROMEBAT DE PECTORE VERBA.
CVIVS AD AETHEREVM SPIRITVS DVM PERGERET AXEM,
POST QVINOS VNDECIES VITAE SVAE CIRCITER ANNOS
APICEM RELIQVIT REGNI PRAESTANTISSIMO NATO
LYVTHPRANDO INCLYTO ET GVBERNACVLA GENTIS,
DATUM PAPIAE DIE IDVVM IVNII INDICTIONE DECIMA.
Quel _datum Papiae_ temo io che non si legga così disteso nel marmo, sì
perchè questo non è un diploma o una lettera da mettervi il _datum_, e
sì perchè non si soleva per anche dire _Papiae_, ma bensì _Ticini_.
Verisimilmente le due sole lettere DP, che significano _depositus_, si
son convertite in _Datum Papiae_. Per altro sta bene la nota
cronologica, apparendo da varie memorie da me rapportate nelle Antichità
Italiche, e da altre osservate dal cardinal Baronio[199], dal p.
Pagi[200] e da altri, che cominciò in quest'anno a regnare il re
_Liutprando_ suo figlio, giovane bensì, ma principe di grande
aspettazione. Veggasi ancora uno strumento della primaziale di Pisa, da
me pubblicato[201], da cui apparisce che tra il febbraio e luglio
dell'anno presente Liutprando diede principio all'epoca del suo regno.
Prima nondimeno di terminar quest'anno, vo' riferire un fatto spettante
ai tempi del re Ariberto II, e succeduto nell'anno undecimo del suo
regno, per cui si accese in Toscana una fiera lite fra i vescovi di
Arezzo e di Siena, che durò poi dei secoli, come apparisce dagli Atti da
me dati alla luce nelle Antichità italiche[202]. Ne rapporterò il
principio colle parole stesse di Gerardo, vecchio primicerio della
Chiesa aretina che ne lasciò nell'anno 1057 una memoria, tuttavia
esistente manuscritta nell'archivio di quei canonici, e da me tempo fa
copiata. _Aripertus_ (dice egli) _filius ejus regnavit annos XII, cujus
regni anno undecimo senensis civitatis episcopus contra Deum, suique
ordinis periculum, sanctorum patrum firmissima jura, sanctaeque
Ecclesiae terminos transgressus, invasit quamdam sanctae aretinae
ecclesiae paroechiam, senensi territorio positam, atque per integrum
annum enormiter, ut ipse episcopus postea ante Liutprandum
gloriosissimum regem confessus est, usurpavit, ordinans in ea aliquanta
oracula, et duos presbyteros; statimque synodali terrore perterritus
cessavit. Tunc autem haec temeraria praesumptio et prima usurpatio
initium sumpsit, ut in vetustissimis thomis ego Gerardus, antiquus
sanctae aretinae Ecclesiae primicerius, qui et haec omnia, Deo teste,
veraciter ordinavi, legi paucis ab... Lupertianus aretinensis episcopus
cum suis domesticis habitabat apud plebem sanctae Mariae in Pacina,
pacifico et quieto ordine exercens ea, quae ad episcopum pertinent in
sua dioecesi. Illo autem tempore senensis civitas erat domnicata ad
manus Ariberti regis Langobardorum, habitabatque in ea judex regis
Ariperti, nomine Gundipertus, qui veniens simul cum Roberto Castaldio
regis Ariberti ad plebem sanctae Mariae in Pacina, ubi episcopus
Lupertianus aritinensis erat, nullamque reverentiam episcopo exhibens,
coepit homines ipsius episcopi injuriose atque contumeliose distringere,
atque per placita fatigare. Quod factum, Aretini, qui cum episcopo
erant, non volentes pacificare, tandem irruentes ipsum Godipertum
judicem senensis civitatis occiderunt. Qua de causa universus senensis
populus commotus est adversus Lupertianum episcopum, eumque inde
fugaverant, illam que parochiam Adeodatum senensem episcopum, qui erat
consobrinus praedicti Godoperti judicis, quem Aretini interfecerant,
volentem, nolentemque per unum annum tenere fecerunt. Ibique tria
oracula_ (cioè tre oratorii) _et duos presbyteros enormiter, et contra
ecclesiasticam disciplinam consecravit. Obiit autem praedictus rex anno
Dominicae Incarnationis DCCXII._ Vedremo andando innanzi la continuazion
di questa lite, essendo qui solamente da osservare che non di una sola
parrocchia, ma di molte si disputò fra que' vescovi, siccome fra poco si
osserverà. Continuarono ancora in quest'anno i Saraceni le loro
conquiste nella Spagna, con impadronirsi di Merida, di Siviglia, di
Saragozza e d'altre città. Solamente fece loro fronte il valoroso
_Pelagio_, che eletto re dei Cristiani nell'Austria, riportò anche varie
vittorie contra di quegl'infedeli.
NOTE:
[195] Theoph., in Chronogr.
[196] Agnell., in Vit. Felicis, tom. 2 Rer. Italic.
[197] Anastas. Biblioth. in Constant.
[198] Paulus Diaconus, lib. 6, cap. 35.
आपने इतालवी साहित्य में से 1 पाठ पढ़ा है।
अगला - Annali d'Italia, vol. 3 - 10
  • भाग
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 01
    शब्दों की कुल संख्या 4389 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1643 है
    40.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    65.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 02
    शब्दों की कुल संख्या 4314 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1660 है
    42.4 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    64.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 03
    शब्दों की कुल संख्या 4250 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1653 है
    39.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    63.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 04
    शब्दों की कुल संख्या 4301 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1585 है
    39.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    63.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 05
    शब्दों की कुल संख्या 4293 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1627 है
    41.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    63.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 06
    शब्दों की कुल संख्या 4395 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1690 है
    40.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    64.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 07
    शब्दों की कुल संख्या 4266 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1798 है
    37.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 08
    शब्दों की कुल संख्या 4400 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1615 है
    41.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    64.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 09
    शब्दों की कुल संख्या 4323 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1805 है
    37.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 10
    शब्दों की कुल संख्या 4244 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1670 है
    37.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 11
    शब्दों की कुल संख्या 4203 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1580 है
    39.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    61.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 12
    शब्दों की कुल संख्या 4327 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1595 है
    40.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 13
    शब्दों की कुल संख्या 4269 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1602 है
    40.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    64.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 14
    शब्दों की कुल संख्या 4300 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1594 है
    41.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    63.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 15
    शब्दों की कुल संख्या 4379 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1619 है
    39.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 16
    शब्दों की कुल संख्या 4256 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1550 है
    39.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 17
    शब्दों की कुल संख्या 4362 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1608 है
    41.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    64.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 18
    शब्दों की कुल संख्या 4374 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1513 है
    42.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 19
    शब्दों की कुल संख्या 4297 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1524 है
    42.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.8 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    65.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 20
    शब्दों की कुल संख्या 4432 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1552 है
    38.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    60.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 21
    शब्दों की कुल संख्या 4408 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1699 है
    39.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 22
    शब्दों की कुल संख्या 4351 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1610 है
    38.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 23
    शब्दों की कुल संख्या 4362 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1637 है
    39.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    61.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 24
    शब्दों की कुल संख्या 4298 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1611 है
    39.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 25
    शब्दों की कुल संख्या 4438 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1644 है
    39.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    60.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 26
    शब्दों की कुल संख्या 4283 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1693 है
    39.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 27
    शब्दों की कुल संख्या 4312 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1729 है
    36.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 28
    शब्दों की कुल संख्या 4400 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1767 है
    35.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 29
    शब्दों की कुल संख्या 4286 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1692 है
    36.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 30
    शब्दों की कुल संख्या 4336 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1640 है
    37.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 31
    शब्दों की कुल संख्या 4331 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1753 है
    37.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    61.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 32
    शब्दों की कुल संख्या 4224 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1772 है
    35.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 33
    शब्दों की कुल संख्या 4262 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1787 है
    34.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 34
    शब्दों की कुल संख्या 4208 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1721 है
    35.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 35
    शब्दों की कुल संख्या 4164 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1759 है
    36.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 36
    शब्दों की कुल संख्या 4145 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1743 है
    33.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    45.8 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 37
    शब्दों की कुल संख्या 4276 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1765 है
    37.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 38
    शब्दों की कुल संख्या 4305 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1709 है
    39.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.8 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    63.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 39
    शब्दों की कुल संख्या 4371 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1647 है
    40.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 40
    शब्दों की कुल संख्या 4270 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1661 है
    37.4 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 41
    शब्दों की कुल संख्या 4361 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1610 है
    41.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    65.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 42
    शब्दों की कुल संख्या 4335 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1611 है
    41.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    64.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 43
    शब्दों की कुल संख्या 4342 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1725 है
    38.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    60.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 44
    शब्दों की कुल संख्या 4126 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1672 है
    37.4 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 45
    शब्दों की कुल संख्या 4258 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1585 है
    42.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    65.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 46
    शब्दों की कुल संख्या 4326 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1721 है
    37.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 47
    शब्दों की कुल संख्या 4308 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1680 है
    37.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 48
    शब्दों की कुल संख्या 4281 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1724 है
    37.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    60.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 49
    शब्दों की कुल संख्या 4326 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1657 है
    39.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 50
    शब्दों की कुल संख्या 4093 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1823 है
    34.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    47.3 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 51
    शब्दों की कुल संख्या 4253 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1766 है
    36.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 52
    शब्दों की कुल संख्या 4115 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1704 है
    34.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 53
    शब्दों की कुल संख्या 4133 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1753 है
    35.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 54
    शब्दों की कुल संख्या 4241 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1697 है
    36.4 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 55
    शब्दों की कुल संख्या 4323 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1640 है
    36.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 56
    शब्दों की कुल संख्या 4157 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1614 है
    37.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 57
    शब्दों की कुल संख्या 4094 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1714 है
    34.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 58
    शब्दों की कुल संख्या 4328 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1726 है
    38.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    62.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 59
    शब्दों की कुल संख्या 4224 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1710 है
    37.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 60
    शब्दों की कुल संख्या 4257 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1644 है
    38.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 61
    शब्दों की कुल संख्या 4140 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1680 है
    36.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 62
    शब्दों की कुल संख्या 4348 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1613 है
    38.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    60.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 63
    शब्दों की कुल संख्या 4069 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1804 है
    31.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    44.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 64
    शब्दों की कुल संख्या 4150 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1675 है
    36.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 65
    शब्दों की कुल संख्या 4135 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1593 है
    36.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 66
    शब्दों की कुल संख्या 4139 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1733 है
    35.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    49.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.4 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 67
    शब्दों की कुल संख्या 4098 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1716 है
    34.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    47.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 68
    शब्दों की कुल संख्या 4111 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1596 है
    36.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 69
    शब्दों की कुल संख्या 4197 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1673 है
    38.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    60.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 70
    शब्दों की कुल संख्या 4294 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1600 है
    38.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.2 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.6 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 71
    शब्दों की कुल संख्या 4293 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1771 है
    34.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    47.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 72
    शब्दों की कुल संख्या 4299 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1726 है
    36.6 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 73
    शब्दों की कुल संख्या 4225 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1745 है
    33.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    44.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 74
    शब्दों की कुल संख्या 4301 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1642 है
    36.9 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.0 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.0 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 75
    शब्दों की कुल संख्या 4222 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1629 है
    37.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    52.1 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.1 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 76
    शब्दों की कुल संख्या 4095 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1647 है
    36.8 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 77
    शब्दों की कुल संख्या 4207 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1665 है
    37.0 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    50.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    58.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 78
    शब्दों की कुल संख्या 4207 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1696 है
    35.5 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    48.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 79
    शब्दों की कुल संख्या 4187 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1681 है
    34.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    47.6 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.9 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 80
    शब्दों की कुल संख्या 4123 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1744 है
    34.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    46.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 81
    शब्दों की कुल संख्या 4107 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1560 है
    37.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    51.9 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    59.5 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 82
    शब्दों की कुल संख्या 4079 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1656 है
    36.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    48.4 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    56.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 83
    शब्दों की कुल संख्या 4104 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1669 है
    33.2 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    46.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 84
    शब्दों की कुल संख्या 4104 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1664 है
    35.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    46.8 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    53.7 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 85
    शब्दों की कुल संख्या 4153 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1723 है
    34.1 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    48.8 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    57.2 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 86
    शब्दों की कुल संख्या 4199 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1636 है
    36.7 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    48.7 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    55.8 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।
  • Annali d'Italia, vol. 3 - 87
    शब्दों की कुल संख्या 3510 है
    अद्वितीय शब्दों की कुल संख्या 1508 है
    35.3 शब्द 2000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    47.5 शब्द 5000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    54.3 शब्द 8000 सबसे आम शब्दों में से हैं
    प्रत्येक पंक्ति प्रति 1000 सर्वाधिक सामान्य शब्दों पर शब्दों के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करती है।